homoeopathic treatment

एकोनाइट नैपेलस Aconitum napellus

एकोनाइट नैपेलस

Aconite napellus 

एक तरह के पौधे से बनाया जाता है जिसमे एक विषैला किस्म का केमिकल पाया जाता है, यह पौधा अमेरिका, एशिया, मध्य-यूरोप और हिमालय पहाड़ों में भी पाया जाता है |

एकोनाइट 5 प्रकार का होता है

  1. एकोनाइट नैपेलस (Aconite Napellus)

  2. एकोनाइट कैमारम (Aconite Cammarum)

  3. एकोनाइट फेरोक्स (Aconite Ferox )

  4. एकोनाइट लाईकोटॉनम ( Aconite Lycotonum)

  5. एकोनाइट रैडिक्स (Aconite Radix )

 

प्रमुख मानसिक और शारीरिक लक्षण(Mental and Physical Symptoms)

मन

किसी भी रोग के साथ अत्यधिक भय, व्यग्रता, चिन्ता, मानसिक और शारीरिक बेचैनी, भय एकोनाइट का मुख्य चारित्रिक लक्षण है| चेहरे से ही पता लग  जाता है की वह डरा हुआ है भविष्य के प्रति निराशा एवं भयभीत रहना, मृत्यु का भय , रोगी को लगता है की वह जल्दी ही मर जाएगा, बेचैनी के कारण छटपटाहट | भीड़भाड़ और सड़क पार करने से डर, सोचता है अभी अभी जो कुछ किया है वह सपना था |  

रोगी खुद को छूने नहीं देना चाहता है शक्ति का अचानक और अत्यधिक कमी हो जाना| जिन लोगों पर जलवायु परिवर्तन का तुरंत प्रभाव पड़ता है |

शुष्क , ठंडे  , शीतलहर , पसीने के दब जाने के कारण उत्पन्न परेशानियाँ और तनाव तथा अतात्धिक गर्म मौसम के कारण भी शिकायत | शरीर के अंदरूनी हिस्सों में जलन , झनझनाहट, ठंढक और सुन्नापन का अनुभव |

एकोनाइट को किसी भी बिमारी के शुरूआती में प्रारंभिक अवस्था में ही प्रयोग किया जाता है ना की रोग बढ़ जाने या बिगड़ जाने पर |

 

सिर

सिर भारी, गरम, फटने जैसा , अंतर्दाह के साथ दर्द, लगता है मानो को बालों को खीच रहा है या बाल खड़े हो गए हों |

आँख

आँखें शुष्क , गरम महसूस होना , पलकें कठोर और लाल | बर्फ की चमक से या कोई बाहरी चीज आँख में घुस जाने के बाद निकाल लेने पर आँख से पानी गिरना |

नाक

एकाएक ठण्ड लगकर सर्दी हो जाना , नयी सर्दी गंध के प्रति अति संवेदनशील, नाक की जड़ में दर्द | नाक बंद होना, सुखा या हल्का बहने वाला नजला |

अमाशय

वमन होनेके साथ भय, गर्मी , बहुत पसीना और काफी पेशाब होना , सभी चीजों का स्वाद कड़ा लगता है | अत्यधिक प्यास | रोगी पानी पीता है , उलटी करता है और फिर मृत्यु की भविष्यवाणी कर देता है |

मूत्र

पेशाब का रंग लाल , गरम , दर्द के साथ और बहुत थोडा होना | पेशाब में रुकावट के सतत चिल्लाकर रोना , छटपटी होना | अत्यधिक मूत्र के साथ पसीना और पतला दस्त होना |

स्त्री

प्रसव के पहले होनेवाले दर्द के साथ भय, बेचैनी और डर

श्वांस संस्थान

सांस में रुकावट का अनुभव | सुखा , कर्कश और काली खांसी , सांस फूलती है | रात में आधी रात के बाद खांसी बढती है |

ह्रदय

ह्रदय गति का असामान्य रूप से तेज होना | ह्रदय की तेज धड़कन के साथ घबराहट, बेहोशी

नींद

नींद में डरावने सपने देखता है , घबराहटपूर्ण | अनिद्रा के साथ बेचैनी छटपटाहट, सोते सोते चौंक जाना , बूढ़े लोगों में अनिद्रा |

बुखार

एकाएक तेज बुखार के साथ भीतर से दाह और जलन | रोगी अपने ऊपर से ठंडी हवाएं बहने जैसा अनुभव करता है, शरीर पर जरा स भी पसीना न होना  प्यास और बेचैनी | मानसिक बेचैनी और छटपटाहट, मृत्य का डर

जिन रोगों में शुरुआत में एकोनाइट का प्रयोग किया जाता है , उसी में अंत में सल्फर का प्रयोग करना चाहिए | 

कमी- खुली हवा से 

वृद्धि- गर्म कमरे से , शाम के समय, रात में , संगीत से , धूम्र पान से , ठंडी और शुष्क हवा से 

रोग का कारण – भय, त्रास, ठंडी हवा , शुष्क हवा , गर्मी से 

क्रियानाशक- एसिटिक एसिड, सल्फर, कॉफिया, बेर्बेरिस

शक्ति (Potency) – 6, 30 , 200

 

About the Author

monsterid

Admin

डा राजकुमार (BHMS) होमियोपैथी के क्षेत्र में एक प्रशिक्षित और काफी अनुभवी डॉक्टर हैं , अपने क्लिनिक के माध्यम से कई वर्षों (लगभग 20 वर्ष) से हर तरह की नये और पुराने तथा जटिल रोंगों के सफल ईलाज करते आ रहे हैं ,यह वेबसाइट किसी भी व्यक्ति के लिए काफी उपयोगी है , कोई भी आदमी इस वेबसाइट से फायदा उठा सकते हैं | अगर कोई भी सवाल या कुछ पूछना चाहते हैं तो बिना कोई संकोच के सम्पर्क कर सकते हैं , email - [email protected]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *