allium cepa 30 uses in hindi

Allium cepa

एलियम सीपा

 allium cepa  homeopathy uses

यह दवा लाल प्याज़ से बनाई जाती है।

यह दवा सर्दी जुकाम का लक्षण जिसमें नाक से तीखा स्राव (नजला) और आँखों से निकलने वाला पतले स्राव मे फायदेमंद है। सर्दी जुकाम जो गरम कमरे में जाने से और शाम के समय बढ़ जाता है, गायकों को होने वाला सर्दी जुकाम, खुली हवा में अच्छा महसूस होना। कफ प्रकृति रोगियों के लिए, ठंड के मौसम में सर्दी जुकाम का हो जाना। चोट के बाद या ऑपरेशन आदि के बाद के घाव में होने वाले दर्द, जलन और पीड़ा। ऋतुस्राव के दौरान सिरदर्द बंद हो जाना और स्राव के बंद होते ही फिर होने लगता है।
चेहरा, मस्तिष्क गले और छाती में एक लंबे धागे जैसी अनुभूति के साथ गतिशील रहने वाला स्नायू का दर्द।

नाक

छींके, हर साल अगस्त के महीने में बिस्तर से उठने के बाद जोर की छींक आती है। नाक के भीतर का मांस का फूल जाना (polypus)।  नाक से बहुत पानी के तरह पतला और तीखा स्राव निकलना, नाक की नोक से तीखा, पतला स्राव टपकना (आर्सेनिक), वसंत के मौसम या ठंडा हवा लग जाने के बाद नाक से पानी निकलना।

आँख

लाल, जलनशील, आंसू के तरह पानी निकलना, रोशनी के प्रति सवेदनशील, फूली हुयी, खुली हवा में आराम महसूस होना। आँखों में धुआँ लगने के तरह जलन।

पेट

पेट गड़गड़ाना और बदबूदार वायु निकलना, बच्चों का पेट दर्द जो बैठे रहने पर बढ़े और इधर उधर घूमने पर घट जाये। बहुत ज्यादा खा लेने, खीरा ककड़ी या सलाद खाने से पेट दर्द।

अंगुलबेढ़ा

हाथ की उंगलियों के नाखूनों के आस पास काफी दर्द के साथ लाल रेखाएं। एड़ी पर घाव,  एड़ी में रगड़ पड़ जाने के कारण दर्दनाक और खाल उधड़े दाग, जोड़ो में लंगड़ापन। कटे हुए अंग की स्नायुओं में दर्द, पैर भीगने के कारण बीमारी, पैर रगड़ खाकर बीमारी और दर्द ( डायस्कोरिया)।

रोग बढ़ना

शाम के समय, गर्म कमरे में जाने से।

कमी

खुली हवा से, ठण्डे कमरे में

रोग का कारण

आद्र और ठंडी हवा लगने से, बसंत में होनेवाले सर्दी, भीगे पैर के कारण, सड़ी या खराब मछली खाने के बाद, चोट, सर्जिकल ऑपरेशन के बाद दर्द।

तुलना करें

जेल्सीमियम, यूफ्रेशिया, एकोनाइट

पूरक

फॉस्फोरस, पल्साटिला, थूजा

प्रतिविष

आर्निका, वेरेट्रम, कैमोमिला

मात्रा
6, 30, 200 पोटेंसी 

जरुर पढ़ें

 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *