sun stroke

लू Sun stroke

लू लगने के लक्षण और बचने के उपाय . Sun stroke / heat stroke prevention

लू sun stroke

 

  • शरीर में पानी की कमी लू लगने की सबसे बड़ी वजह है।
  • लू में आम का पन्ना पीना होता है बेहद फायदेमंद।
  • कच्ची प्याज भी लू से बचाने में होती है मददगार।
  • बेल या नींबू का शर्बत पीने से होता है लूं में फायदा।

 

लू लगने के लक्षण

“लू” लगने का प्रमुख कारण शरीर में नमक और पानी की कमी होना है। पसीने की “शक्ल” में नमक और पानी का बड़ा हिस्सा शरीर से निकलकर खून की गर्मी को बढ़ा देता है। सिर में भारीपन मालूम होने लगता है, नाड़ी की गति बढ़ने लगती है, खून की गति भी तेज हो जाती है। साँस की गति भी ठीक नहीं रहती तथा शरीर में ऐंठन-सी लगती है। बुखार काफी बढ़ जाता है। हाथ और पैरों के तलुओं में जलन-सी होती रहती है। आँखें भी जलती हैं। इससे अचानक बेहोशी व अंततः रोगी की मौत भी हो सकती है।

 

लू से बचने के उपाय

  • लू से बचने के लिए दोपहर के समय बाहर नहीं निकलना चाहिए। अगर बाहर जाना ही पड़े तो सिर व गर्दन को तौलिए या अंगोछे से ढँक लेना चाहिए। अंगोछा इस तरह बाँधा जाए कि दोनों कान भी पूरी तरह ढँक जाएँ।
  • गर्मी के दिनों में हल्का व शीघ्र पचने वाला भोजन करना चाहिए। बाहर जाते समय खाली पेट नहीं जाना चाहिए।
  • गर्मी के दिनों में बार-बार पानी पीते रहना चाहिए ताकि शरीर में पानी की कमी नहीं होने पाए। पानी में नींबू व नमक मिलाकर दिन में दो-तीन बार पीते रहने से लू नहीं लगती।
  • गर्मी के दौरान नरम, मुलायम, सूती कपड़े पहनना चाहिए जिससे हवा और कपड़े शरीर के पसीने को सोखते रहते हैं।
  • गर्मी में ठंडाई का सेवन नियमित करना चाहिए। मौसमी फलों का सेवन भी लाभदायक रहता है जैसे, खरबूजा, तरबूज, अंगूर इत्यादि।
  • गर्मी के दिनों में प्याज का सेवन भी अधिक करना चाहिए एवं बाहर जाते समय कटे प्याज को जेब में रखना चाहिए।

 

heat stroke लू से बचाव
भरपूर पानी पीयें 
गर्मी में चूंकि पसीना अधिक आता है इसलिए शरीर का पानी अधिक मात्रा में खर्च होता है । अब यदि पानी की आपूर्ति न हो तो शरीर से पसीना निकलना बंद हो जाएगा । पसीना शरीर के तापमान को नियंत्रित कर लू से बचाव करता है । इसी प्रकार शीतल जल एक अमृत पेय है । घर से निकलने से पहले खूब पानी पिएं ताकि शरीर में उसकी कमी न रहे । पानी के अतिरिक्त इस मौसम में शरबत, गन्ने का रस, लस्सी आदि का भी सेवन करना चाहिए। पानी व रेशा प्रधान तरावट देने वाले फलों का सेवन करना चाहिए ।

भरपेट भोजन करें 

गर्मी के दिनों में भूखे नहीं रहना चाहिए । जब भी घर से बाहर निकलना हो भरपेट भोजन करके निकलना चाहिए । 

धूप का चश्मा लगाकर निकलें

ग्रीष्मकाल में जब भी घर से बाहर निकलें, आंखों पर धूप का चश्मा लगाकर निकलें, यह धूप से राहत और आंखों को ठंडक देगा। जो लोग एयर कंडीशनर या कूलर के सामने बैठ कर काम करते हैं उन्हें एकदम ठंडे वातावरण से तेज धूप में नहीं निकलना चाहिए क्योंकि इस सर्दी-गर्मी की वजह से भी लू लग सकती है ।

कॉटन क्लोथ्स का करें इस्तेमाल

धूप में निकलने से पहलें पूरे शरीर को किसी कपड़े से कवर कर लें और दोपहर में सड़कों पर या खुले मैदानों में न घूमें । यदि सड़कों पर पैदल जाना है तो छाता लेकर जाएं । यदि दोपहिया वाहन चलाना हो तो सिर पर हैल्मेट या टोपी पहनें। गर्म हवा के थपेड़ों से बचने के लिए कान को कपड़े से ढंक लें ।

इमली के बीज 

इमली के बीज को पीसकर उसे पानी में घोलकर छानकर और इस पानी में शक्कर मिलाकर पीने से लू से बचा जा सकता है ।

धनिया है फायदेमंद 

धनिए को पानी में डालकर रखें फिर मसलकर और छानकर पानी में थोड़ी चीनी मिलाकर पीने से लू से बचा जा सकता है ।

आम का पन्ना

गर्मियों में कच्चे आम का शर्बत या आम का पन्ना पीना चाहिए एेसा करने से लू से राहत मिलती है ।

 प्याज

कच्चे प्याज का सेवन करने से भी लू से राहत मिलती है या खाने के साथ कच्चे प्याज का सलाद खाने से भी लू से राहत मिलती है।

लू लगने या इसके लक्षणों में प्रयोग होने वाली प्रमुख homoeopathic  medicine 

 

Homoeopathic medicine —  

मुख्य दवा –  Glonoine 30 (ग्लोनाइन) हर आधे घंटे पर 1  ख़ुराक – सर दर्द , बुखार , घबराहट 
Belladona 30 (बेलाडोना) हर आधे घंटे पर 1  खुराक – माथा गर्म , आँखे लाल , तेज बुखार
Gelsemium (जेल्सेमियम)30 हर आधे घंटे पर – चुपचाप पड़े रहने की इच्छा , बुखार , प्यास न हो 

About the Author

monsterid

Admin

डा राजकुमार (BHMS) होमियोपैथी के क्षेत्र में एक प्रशिक्षित और काफी अनुभवी डॉक्टर हैं , अपने क्लिनिक के माध्यम से कई वर्षों (लगभग 20 वर्ष) से हर तरह की नये और पुराने तथा जटिल रोंगों के सफल ईलाज करते आ रहे हैं ,यह वेबसाइट किसी भी व्यक्ति के लिए काफी उपयोगी है , कोई भी आदमी इस वेबसाइट से फायदा उठा सकते हैं | अगर कोई भी सवाल या कुछ पूछना चाहते हैं तो बिना कोई संकोच के सम्पर्क कर सकते हैं , email - [email protected]

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error

जानकारी अच्छी लगे तो share करना न भूलें