kaan behna ki dawa

Otorrhoea

कान का बहना

कान से पीप, मवाद आने का होम्योपैथीक इलाज

जब किसी व्यक्ति के कान से तरल पदार्थ बाहर निकलता है, तो उसे इयर फ्लशिंग या ओटारिया कहा जाता है। हालांकि यह समस्या युवा शिशुओं और बच्चों में अधिक आम है, लेकिन किसी भी उम्र के लोग इससे प्रभावित हो सकते हैं। अधिकतर कान से निकलने वाला पदार्थ ईयरवैक्स है – यह एक तरल पदार्थ है जो शरीर में प्राकृतिक रूप से निर्मित होता है। इसी समय, रक्त, मवाद या अन्य प्रकार के तरल पदार्थ भी कान से बाहर निकलते हैं। जो इंगित करता है कि आपकी इयरडोम घायल है या कान में संक्रमण है। इस स्थिति में चिकित्सा देखभाल आवश्यक है। दूसरी ओर, यदि आपके कान से बहने वाला रक्त मवाद या रक्त नहीं है, तो घरेलू उपचार की मदद से आप कान बहने की समस्या को भी खत्म कर सकते हैं।
सामान्यतः कान से मवाद आने को मरीज गंभीरता से नहीं लेता, इसे अत्यंत गंभीरता से लेकर विशेषज्ञ चिकित्सक से परामर्श एवं चिकित्सा अवश्य लेना चाहिए अन्यथा यह कभी-कभी गंभीर व्याधियों जैसे मेनिनजाइटिस एवं मस्तिष्क के एक विशेष प्रकार के कैंसर को उत्पन्न कर सकता है। कान में मवाद किसी भी उम्र में आ सकता है, किंतु प्रायः यह एक वर्ष से छोटे बच्चों या ऐसे बच्चों में ज्यादा होता है जो माँ की गोद में ही रहते हैं।
बच्चों की गले से कान को जोड़ने वाली नली चूँकि छोटी एवं चौड़ी होती है, अतः दूध पिलाने वाली माताओं को हमेशा बच्चे को गोद में लेकर  सिर के नीचे हाथ लगाकर, सिर को थोड़ा ऊपर उठाकर ही बच्चे को दूध पिलाना चाहिए। ऐसी माताएँ जो लेटे-लेटे बच्चो को दूध पिलाती हैं उन बच्चों में भी कान बहने की समस्या उत्पन्न होने की ज्यादा आशंका रहती है।

ऐसा कई कारणों से हो सकता है। मवाद, रक्त, या सफेद-पीले तरल पदार्थ के रूप में कान से निकलने वाला पदार्थ किसी भी आंतरिक परेशानी का संकेत दे सकता है। इस ओर ध्यान देकर उचित सलाह लेने की आवश्यकता है।

कान बहने या कान  से पानी निकलने वाली इस परेशानी के पीछे कई कारण हो सकते हैं। जैसे 

कान में या उसके आसपास किसी भी प्रकार का संक्रमण

जब किसी भी तरह का वायरस या बैक्टीरिया कान के मध्य भाग में पहुंचता है, तो यह विकसित हो सकता है। इसके कारण उस स्थान पर तरल पदार्थ बनना शुरू हो जाता है और कान बेचैनी के साथ बहने भी शुरू हो सकते हैं।

आघात या अंदरूनी चोट लगना 

कान की सफाई करते समय या किसी अन्य स्थिति में कान के अंदरूनी हिस्से में अचानक झटका लगने से भी कान बहने की समस्या हो सकती है। अक्सर, जब कान की सफाई करते हैं या आदतन किसी वस्तु को कान में गहराई से डालते हैं, तो आंतरिक भाग क्षतिग्रस्त हो जाता है और कान से डिस्चार्ज होना शुरू हो सकता है। इसके अलावा, किसी अन्य आघात से भी कान बह सकते हैं।

कान में पानी घुसना 

कई बार शॉवर लेते समय या तैरते समय पानी हमारे कानों में चला जाता है। यह कान में झुनझुनी सनसनी का कारण बनता है। इस समय काफी परेशानी का अहसास होता है। कभी-कभी यह कान दर्द और सुनने की क्षमता पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है। लंबे समय तक पानी के कान के संपर्क में रहने से संक्रमण हो सकता है। बहुत से लोग अपने कानों से पानी निकालने के लिए कई चीजों का उपयोग बेतरतीब ढंग से करने लगते हैं। कान शरीर का एक नाजुक हिस्सा होते हैं, इसलिए पानी निकालने के लिए कान के अंदर कुछ भी डालने से आपको बहुत नुकसान हो सकता है।

कान बहने के पीछे अन्य कारणों में शामिल हैं – कान के अंदर की हड्डियों को नुकसान, ट्यूमर, चोट, कोई बहरी चीज का कान के अंदर घुस जाना, सिर में चोट, एक्जिमा हो जाना आदि।

कुछ चीजें हैं जो आप अपने बच्चे को कान में संक्रमण होने से बचाने के लिए कर सकते हैं, जैसे-

  • अपनी पीठ पर झूठ बोलकर अपने बच्चे को खिलाने के बजाय, इसे थोड़ा अधिक बैठकर खिलाएं।

  • अपने बच्चे को चूसने से दूध पिलाने की कोशिश न करें या उसे शांत करने के लिए बार बार चुसनी न दें। भले ही आप इसे अपने बच्चे को दें, लेकिन इसे थोड़े समय के लिए देने की कोशिश करें।

  • कोशिश करें कि कॉटन स्वैब या कॉटन बड का इस्तेमाल न करें। यहां तक ​​कि अगर आप उपयोग करते हैं, तो इसके साथ कान के केवल बाहरी हिस्से को साफ करें। बच्चे के कान नहर के अंदर इसे न डालें। यदि आप गलती से इसको कान के अंदर ले जाते हैं, तो इससे बच्चे को दर्द हो सकता है, और कान के पर्दे को भी नुकसान पहुंचा सकता है।

  • धूम्रपान न करें और अपने बच्चे के आसपास किसी और को धूम्रपान न करने दें।

   

कान बहने के समस्या को किसी तेज एलोपैथिक दवा खाकर दबाना नही चाहिए नही तो बाद में यह रोग दूसरा समस्या उत्पन्न कर सकता है और रोग लाइलाज हो सकता है | 

 

Note – यह बीमारी इन कारणों से भी हो सकती है जैसे – कान में सुजन , खसरे के बाद , बार बार फुंसी या घाव होना  

ईलाज

  • प्याज का रस थोडा गर्म करके एक या दो बूंद कान में डालने से बहना ठीक हो जाता है  दर्द भी चला जाता है 
  • लहसुन को सरसों के तेल में पकाकर कान में डालने से कान का दर्द  कान का घाव और कान से मवाद आना ठीक हो जाता है – 

होम्योपैथिक इलाज Homoeopathic treatment

  • साईलिशिया 6X, 12x  दिन में 4 बार 4-4 गोली – खासकर पुराने रोग में   अगर कान का पर्दा फट गया हो तो उसमे भी काम करेगा 

  • पल्साटिला 200 दिन में 3 बार 2 या 3 बूंद – अगर मवाद गाढ़ा, हरा-पीला चिपचिपा हो 

  • हिपर सल्फर  30 2-2 बूंद- अगर कान बहने के साथ तेज दर्द भी हो , रोगी फोड़े फुंसी से परेशान , ठण्ड से तकलीफ बढ़े

  • टेलुरियम 30 दिन में 4 बार 2 से 3 बूंद – अगर स्राव पानी की तरह पतला हो 

  • सोरिनम (Psorinum 1M) -10 -12 दिन में 1 बार  -अगर मवाद से बहुत बदबू आये और कोई दवा काम न करे 

  • कैल्केरिया सल्फ 6x या 12x दिन में 4 बार 4-4 गोली – यह भी किसी तरह के मवाद के स्राव को रोकने के लिए अच्छी दवा है 

 

Related Posts

2 thoughts on “Otorrhoea कान का बहना

    1. Rhus tox 1M 1 खुराक हर 1 सप्ताह पर
      Hypericum 200, Ledum 200, Colchicum 200 ये तीनों में से रोज दिन में 3 बार 3-3बूंद

Leave a Reply

Your email address will not be published.