खाज खुजली Itching

खाज खुजली Itching

यह एक जल्दी फैलने वाला चर्म रोग है , हाथ-पैर की उँगलियों , कलाइयों के पीछे और बगल में फुन्सियां निकलती है और धीरे धीरे सारे शरीर में फ़ैल जाती है , बिना फुन्सी या बिना दानो के भी जबर्दस्त खुजली मचती है और लाल चकत्ते के रूप में दिखाई देती है । खुजली का एक कृमि है जिसका नाम […]

गठिया ,वात, जोड़ो का दर्द Gout

गठिया ,वात, जोड़ो का दर्द Gout

Gout, Rheumatism, Arthritis-गठिया, वात, जोड़ों का दर्द  गठिये के आक्रमण का मुख्य कारण शरीर के जोड़ों में युरिक ऐसिड (Uric acid) का जमा हो जाना है। रोगी के मूत्र की परीक्षा (urine  test) करा लेनी चाहिये । अगर मूत्र में यूरिक ऐसिड की अधिकता पायी जाय, तो उसकी तरफ़ विशेष ध्यान देकर चिकित्सा करनी चाहिये । प्रायः रोग का आक्रमण पैर […]

लू लक्षण बचाव और ईलाज Sun stroke

लू लक्षण बचाव और ईलाज Sun stroke

लू लगने के लक्षण और बचने के उपाय . Sun stroke / heat stroke prevention   शरीर में पानी की कमी लू लगने की सबसे बड़ी वजह है। लू में आम का पन्ना पीना होता है बेहद फायदेमंद। कच्ची प्याज भी लू से बचाने में होती है मददगार। बेल या नींबू का शर्बत पीने से होता है लूं में फायदा। […]

Blood Pressure ब्लड-प्रेशर

Blood Pressure ब्लड-प्रेशर

ब्लड–प्रेशर क्या है ? (What is blood pressure) हृदय रक्त को धमनियों (Arteries) में फेंकता है, और वे आगे उसे ‘केशिकाओं (Capillaries) में फेंकती हैं। हृदय को इस प्रकार रक्त को धमनियों और केशिकाओं में फेंकना स्वस्थ-व्यक्ति में 1 मिनट में 72 बार होता है। हृदय द्वारा रक्त के शरीर में इस धकेलने को ‘नाड़ी का चलना  (Beating of artery) […]

Otorrhoea कान का बहना

Otorrhoea कान का बहना

Otorrhoea कान का बहना , कान से पीप, मवाद आने का होम्योपैथीक इलाज सामान्यतः कान से मवाद आने को मरीज गंभीरता से नहीं लेता, इसे अत्यंत गंभीरता से लेकर विशेषज्ञ चिकित्सक से परामर्श एवं चिकित्सा अवश्य लेना चाहिए अन्यथा यह कभी-कभी गंभीर व्याधियों जैसे मेनिनजाइटिस एवं मस्तिष्क के एक विशेष प्रकार के कैंसर को उत्पन्न कर सकता है। कान में […]

श्वेत प्रदर Leukorrhea (Whites)

श्वेत प्रदर Leukorrhea (Whites)

Leukorrhea ल्यूकोरिया (श्वेत प्रदर) अस्वस्थ स्त्री की योनी (Vagina) से एक प्रकार का स्राव निकलता है जिसे प्रदर कहा जाता है | प्रायःयह श्वेत होता है इसलिए इसे श्वेत प्रदर भी कहा जाता है , लेकिन यह पीला,नीला ,खून के रंग का , कभी कभी दूध के जैसा , मांस के धोबन के जैसा या काला भी हो सकता है […]

अनिद्रा  Insomnia

अनिद्रा Insomnia

अनिद्रा (Insomnia) नींद न आना या अनिद्रा (Insomnia) एक बीमारी है , जो प्रायः मानसिक कारणों से होता है | जब शारीरिक या मानसिक परिश्रम करने के बाद शरीर की बहुत सी कोशिकाएं और टीशुएँ क्षय होती है, हमारा आहार उस कमी को पूरा करता है जो की क्षति पूर्ति होते समय एक अचेतना की अवस्था का अनुभव होता है […]

दाँत दर्द Toothache

दाँत दर्द Toothache

दाँत दर्द  दाँत दर्द से काफी कष्ट होता है और कभी कभी बहुत अधिक तकलीफ देता है |   कारण मौसम बदलना  सर्दी लगना  गर्म पेय के बाद तुरत ठंडा पेय या ठंडा पानी पीना  दांतों में गंदगी होना दांतों में सड़न होना , कीड़े लगना  चोट  वातदर्द     ईलाज पहले कारण का पता करके उसको दूर करने का दवा […]

Eye infection आँख आना Conjunctivitis

Eye infection आँख आना Conjunctivitis

आँख बहुत ही कोमल और जटिल अंग है , यह एक कैमरे की तरह होता है जो की हर बाहरी चीज का फोटो बनाकर दिमाग तक भेजता है हमलोग जो बाहर से देखते हैं वास्तव में आंख उस आकार का नहीं है , वह एक गोल पत्थर की तरह गोल है | अंडे की खोल की तरह सफेद भाग जिसका […]

Piles बवासीर

Piles बवासीर

अर्श या बवासीर Piles or haemorrhoids  Fissure in ano   बवासीर की बीमारी में मलद्वार के भीतरी और बाहर कही भी मस्से छोटे –छोटे आकार के हो जाते हैं और इसमें खून जमा होता है , मलद्वार के भीतर या बाहर सूजन और बकरी की छीमी जैसा एक तरह का मस्सा (टयूमर) पैदा हो जाने को अर्श या पाईल्स (piles) कहते […]

चेचक Small pox

चेचक Small pox

Small pox , चेचक से बचाव और रोकथाम के उपाय और ईलाज    homeopathic treatment  चेचक (शीतला, बड़ी माता, small pox) यह रोग अत्यंत संक्रामक है। किसी व्यक्ति को हो जाता है तो इस रोग को ठीक होने में 10-15 दिन लग जाते हैं। लेकिन इस रोग में चेहरे पर जो दाग पड़ जाते हैं उसे ठीक होने में लगभग 5-6 महीने का समय लग […]

एनीमिया Anemia के लक्षण , कारण और ईलाज

एनीमिया Anemia के लक्षण , कारण और ईलाज

एनीमिया. anaemia क्या है एनीमिया (Anemia), जिसे हिंदी में रक्ताल्पता या रक्त की कमी या खून की कमी कहते हैं और जैसा की नाम से ही जाहिर है की यह रक्त से सम्बंधित बीमारी है | एनीमिया से पीड़ित व्यक्ति के खून का वह स्तर कायम नहीं रह पाता , जो साधारणतया होना चाहिए | खून में लाल कणों अथवा हेमोग्लोबिन […]